Category






Love Shayari

Writer Photo Madhu Bhagat Sat 10th Sep 2016
आब नही हु मै ,आइना बन बैठी हूँ अश्क नही इन मैं ,किसी का कहवब्बने बैठी हूँ गुमसुदा हु तेरी मोह्हब्बत में , लेकिन वक़्त और हालाद की गुस्ताखी से तेरे तेज़ की हमसफर बनी बैठी हु ।

Comments


Upload a Shayari Joke:-

Choose type:



login-with-facebook or