Poor Love At First Sight

Author Photo Harsh Raj Wed 24th Dec 2014      Write your Story
Poor-Love-At-First-Sight.jpg
एक लड़की हर रोज़ जब कॉलेज से घर आती तो एक लड़के को अपने घर के आगे खड़ा देखती । जब लड़की उस लड़के की तरफ देखती तो लड़का या तो इधर-उधर देखने लग जाता या फिर अपने मोबाइल पर देखता। हर रोज़ ऐसा होता और ऐसा होते-होते पूरा एक साल बीत गया। लड़की को यकीन हो गया कि लड़का उस से प्यार करता है पर कुछ कह नहीं पा रहा। इसलिए लड़की ने एक दिन खुद ही अपने घर वालों से बात कर ली। घर वाले भी बात समझ गए और उनकी शादी के लिए तैयार हो गए । अगले दिन लड़की ने हिम्मत करके लड़के से कहा,"तुम लगातार एक साल से हर रोज़ मेरे घर के आगे खड़े हो जाते हो। मुझे पता है कि तुम मुझ से बहुत प्यारकरते हो और मैं भी तुमसे शादी करने के लिए तैयार हूँ।" यह सुनकर लड़का डर गया और कांपते-कांपते बोला, "आप गलत समझ रही हैं बहन जी, दरअसल आपके Wi-Fi पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ और मैं तो हर रोज़ मुफ्त में Wi-Fi का इस्तेमाल करने के लिए आपके घर के आगे खड़ा होता हू !!!

A Birthday Treat

Author  Photo NITESH KUMAR   (Sat 26th May 2018) A Birthday Treat
The weather was like naughty baby
Chilly ,cloudy but melody
Sun has bunked its pendulumness
To create the situation of associableness
It all created an illusion in mind
Which seemed to be twilight ;

And we the group of ten flowers
Assembled together round a table
Like a beautiful bookey,perfectly arranged.... Read More

me and my friend

Author  Photo NITESH KUMAR   (Mon 27th Oct 2014) me and my friend
Those thousands of messages
that have been exchanged between us
in social messengers from dawn to dusk.

When the world was at rest
at midnight stage
we had been at some arguments
funnier and ravage.

Those silly tricks that you used.... Read More

माँ

Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) माँ
मुझे सुलाने की खातिर,
कई पहरों तक तुम लोरी गाई ….
अनजान तेरे दुःख से मै सोया,
जननी, इतना धैर्य कहाँ से लायी ?

मेरी दुनिया तुमने जन्नत कर दी,
अपनी खुशियों की बलि चढ़ाई,
ये जन्नत तुझसे बढ़ कर नहीं माँ,
माँ, इतना बलिदान कहाँ से लायी ?
.... Read More

बद-से-बदतर हालात प्रिये

Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) बद-से-बदतर हालात प्रिये
अनचाहे जब मिल ही गए हैं,

कर लेते हैं कुछ बात प्रिये.

अपना हाल सुनाओ तुम,

यहाँ बद-से-बदतर हालात प्रिये.

कैसे तेरे दिन कटते हैं,
.... Read More

hamne Jo ki Mohabbat

Author  Photo Henrik Vishal   (Sun 23rd Nov 2014) hamne Jo ki Mohabbat
Hamne Jo ki thi mohabbat Wo aaj bhi hai,
Tere julpho ki saaye ki chahat aaj bhi hai

Raat Kati hai aaj khayalo me
Tere deewano si meri wo halat aaj bhi hai,

Kisi aur ke tasabbur ko uthti nahi nigahe,
Is baimaan aankho me thodi si sarafat aaj bhi hai,

Chaah kar chaahe ek baar phir chod De.... Read More

तेरी झूठी मोहब्बत से रिहा होकर बेहद सुकूँ पाया है...☺

Author  Photo Shrivastva MK   (Tue 19th Jun 2018) तेरी झूठी मोहब्बत से रिहा होकर बेहद सुकूँ पाया है...☺
जो कल तक तुझपे अपनी ज़िंदगी लुटाया करते थे,
रोते हुए भी तेरे सामने झूठी मुस्कान दिखाया करते थे,
आज अरसे बाद खुद की ज़िंदगी जी पाया है,
तेरी झूठी मोहब्बत से रिहा होकर बेहद सुकूँ पाया है,

हम तो तेरे हर ज़ख्म पर मरहम लगाया करते थे,
Busy रहते हुए भी तेरे लिए ख़ुद को free बताया करते थे,
हम वफ़ा करते ग.... Read More

Khamoshiyon ki raatein

Author  Photo SONIA PARUTHI   (Tue 11th Dec 2018) Khamoshiyon ki raatein
Diwaron mein chunva diya kuch yaadon ko,
Khamakha anarkali bni fir rhi aakhir kyo ?

Kuch ruthe lamhe kuch khwaab tute,
Har kadam par kaanch bnkar chubhte.

Bhut khamoshi se toot jaate hain dil,
Jaane kya jaata hai unhe mil.

Fursat mein karenge tujhse hisaab aye zindagi,.... Read More

sacchi mohabbat meri ibadat

Author  Photo SONIA PARUTHI   (Sun 7th Apr 2019) sacchi mohabbat meri ibadat
Hamari har dadhkan par naam hai aapka,
Aap humein mile shukriya hai khuda ka.

Har janam mein hum ho aapki chahat,
Humesha se rahu mai aapki amaanat.

Khushnaseeb hai meri taqdeer,
Jo hai mere haathon mein aapke naam ki lakeer.

Meri raah-e-manzil mein chiraag jala diye,.... Read More

मैं कहाँ जाऊं यारों

Author  Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh'   (Tue 5th Sep 2017) मैं कहाँ जाऊं यारों
इक तरफ दिल आशिकाना
इक तरफ है मयखाना
मैं कहाँ जाऊं यारों
ये जरा तुम बतलाना
थी निगाह कातिल उसकी
ये नहीं हमने जाना
इक तरफ उसका घर है
इक तरफ है मयखाना
गम नहीं हमको उसने
क्यों नहीं था पहचाना.... Read More