Category






Bewafai Shayari

Writer Photo DHARMESH Fri 16th Sep 2016
फ़क़त सिर्फ जंजीरे बदली जा रही थी...!! और मैं समझ् बैठा के रिहाई हो गई है...!

Comments


Upload a Shayari Joke:-

Choose type:



login-with-facebook or