LAST CRY

Writer Photo SHOUBHIK DEOGHARIA Wed 17th Dec 2014      Write your Poem
last-cry.jpg
A drop of rain,
just came when I was in pain.
Ya its come through my eyes,
When Last time I said you Goodies.

Time seem to be Numb,
and my body seem to be in tight firm.
Just my eyes was in motion,
Its seem as it will form a ocean.

I was confuse.
Don't know, what to say for my excuse.
I was finding a way to hide,
cause deep emotion and regrets were beside.It was the last time, when i cried
cause remember It was my last cry.


Comments

Similar Stories
love birds
Author  Photo Devkant   (Mon 29th Sep 2014) love-birds.jpg
There was a girl named Becca and a boy named Joe. Becca was in a burning house. None of the firefig.... Read More
tuk tuk
Author  Photo Amit Singh   (Fri 24th Oct 2014) tuk-tuk-funny-story.jpg
A boy named Mann was walk in street . suddenly he saw something and starting running away from it ..... Read More
Mouse and Walrus (true friendship)
Author  Photo Sudhakar Kumar   (Fri 24th Oct 2014) mouse-and-walrus-friendship-with-nature.jpg
Once there were two friends(Mouse and Walrus).
They were very good friends. Mouse lives in a wide t.... Read More


Similar Articles
Rain..
Author  Photo SONIA PARUTHI   (Mon 31st Jul 2017) rain.jpg
I am inspired from rain...
It is not frightened to fall...
Nothing is in vain..
If we reach our g.... Read More
11 Amazing Cricket Facts That You should know!
Author  Photo Sudhakar Kumar   (Fri 11th Mar 2016) amazing-cricket-facts-that-you-should-know.jpg
strong>1. The highest number of runs scored in an over is not 36. It’s 77.

This .... Read More
बेटी बचाओ
Author  Photo SONIA PARUTHI   (Sun 2nd Oct 2016) Beti-bachao-beti-padhaao.jpg
बेटी बचाओ

बेटा हो या बेटी ,है तो अपने आँगन का ही फूल , तो फिर आज के युग में बेटी का जन्म होने से पहले ही एक बेटी को माँ की कोख में ही मार दिया जाता है। उसे भी जीने का हक है। लोगो का मानना है कि जो मम्मी और पापा को स्वग॔ ले जाता है वह बेटा होता है।पर शायद लोग इस बात से अनभिज्ञ हैं कि जो स्वग॔ को घ.... Read More


Similar Confessions
When two book thief met in Library
Author Photo Anonymous User   (Sat 26th Mar 2016) when-two-book-thief-met-in-Library.jpg
I used to steal books from our college Library. One day when I was doing my work in the library yeah.... Read More
I am happy unmarried mother of a little girl
Author Photo Anonymous User   (Sat 26th Mar 2016) happy-unmarried-mother-of-a-little-girl.jpg
#copied

I m an unmarried mother of a little girl.. neither im i in any relationship ... im happy .... Read More
Love still exists
Author Photo Anonymous User   (Fri 20th Oct 2017) Love-still-exists.jpg
Hey guys,
Im a girl who has gone through a lot of love thing from which all the teenagers are going.... Read More

Similar Poems


me and my friend
Author  Photo NITESH KUMAR   (Mon 27th Oct 2014) me-and-my-friend-in-love.jpg
Those thousands of messages
that have been exchanged between us
in social messengers from dawn to.... Read More


माँ
Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) poem-for-maa.jpg
मुझे सुलाने की खातिर,
कई पहरों तक तुम लोरी गाई ….
अनजान तेरे दुःख से मै सोया,
जननी, इतना धैर्य कहाँ से लायी ?

मेरी दुनिया तुमने जन्नत कर दी,
अपनी खुशियों की बलि चढ़ाई,
ये जन्नत तुझसे बढ़ कर नहीं माँ,
माँ, इतना बलिदान कहाँ से लायी ?

जब भी था मैं निरा अकेला,
साथ मेरे तू थी बन परछाई,
माँ,.... Read More


कश्ती
Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) kashti-childhood-and-young-life-poem.jpg
कश्ती तब भी चलते थे, कश्ती अब भी चलते हैं,
तब कागज के चलते थे, अब सपनो के चलते हैं।
शिकवे तब भी होते थे, शिकवे अब भी होते हैं,
तब गैरों के होते थे, अब अपनों के होते हैं।

खेल तब भी होते थे, खेल अब भी होते है,
तब चाले थी अपनी, अब मोहरे हमें ही चलते हैं .
कुछ बचपन तब भी थी, कुछ बचपन अब भी है,
.... Read More



हवस और नारी
Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) howas-aur-naari-poem.jpg
कितना बदल गया है भारत,
हवस रोटी पर भारी है,
जहाँ पूजी जाती थी पहले,
अब हर पल लुटती नारी है.

जो कभी थी लक्ष्मी बाई,
आज खुद बेचारी है.
अपने आबरू की भीख मांगती,
ये कैसी लाचारी है?

पहले था धृतराष्ट्र नयनसुख,
अब क़ानून ही अँधा है.
द्रौपदी हारी थी एक जुए मे,
अब हर नज़रों से हारी है.

हर म.... Read More


गरीब का बेटा
Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) poor-boy-poem.jpg
अँधेरी आसमान के नीचे,
वो जमीन पर लेटा था…
चारों ओर थे स्वान भौंकते,
वो गरीब का बेटा था.
भूख से उसकी आँखे सूजी,
और हाड़ भी सुखा था…
एक हाथ से पेट दबाता,
कई दिन से वो भूखा था.
घड़ियाँ गिन कर पहर काटता,
ऐसी विपत्ति ने घेरा था.
पल-पल वो करवट लेता,
दूर अभी सवेरा था.
उठ कर ही क्या करना था?
दि.... Read More


बद-से-बदतर हालात प्रिये
Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) bad-se-badtar-halat-sad-poem.jpg
अनचाहे जब मिल ही गए हैं,

कर लेते हैं कुछ बात प्रिये.

अपना हाल सुनाओ तुम,

यहाँ बद-से-बदतर हालात प्रिये.

कैसे तेरे दिन कटते हैं,

कैसे कटती है रात प्रिये?

मैं तो पल-पल मरता हूँ,

कैसे तेरे लम्हात प्रिये?

तेरा बोर्ड जाल भी तेरे

तेरे मोहरे चाल भी तेरे

मैं भूल गया औकात प्रिये..... Read More