वर्तमान राजनीति में टूटती भाषा की मर्यादा

Author Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh' Tue 5th Sep 2017      Write your Article
Politics-of-India-since-Independence.jpg
वर्तमान राजनीती में टूटती भाषा की मर्यादाएं, चुनाव जीतने के लिए नेता कुछ भी कहेगा
वर्तमान राजनीति में टूटती भाषा की मर्यादाएं, चुनाव जीतने के लिए नेता कुछ भी कहेगा
चुनाव जीतने के लिए नेता कुछ भी कहेगा---
चुनावी बिसात बिछते ही या फिर वर्तमान राजनीती में जिस प्रकार से भाषा की मर्यादाएं टूट रही हैं और हमारे राजनेताओं का आचरण कहीं से भी हमारे सभ्य समाज या हमारी युवा पीढ़ी के लिए आदर्श सिथति नहीं कहा जा सकता ।
क्या नेताओं की जुबान अनजाने में फिसलती है-----
क्या नेताओं की जुबान अनजाने में फिसलती है या फिर जान बूझ कर जुबान फिसलाई जाती है ।
मेरा मानना है नेताओं की जुबान फिसलना जिसे हम लोग विवादित बयान भी कहते हैं । वो जुबान जान बूझ कर चर्चा में रहने और लोगों का ध्यान आकर्षित कर खुद की टी आर पी बढ़ाने का खेल होता है कोई भी विवादित बयान ।
यहां ये भी देखना होता है कि वो जुबान किस नेता की फिसली है और किस नेता के लिए फिसली है ।
इस फिसली जुबान का परिणाम चौतरफा बयानबाजी विरोध प्रदर्शन आदि आदि । नेताजी देश भर में मशहूर हो जाते हैं अपनी उसी फिसलाई हुई जुबान के कारण ।
इस विवादित बयान के नेता को चर्चा में लाने और उनकी टी आर पी बढ़ाने में हमारी मिडिया के योगदान को तो बिलकुल भी नहीं नकारा जा सकता ।
नेताओं की किसी भी साधारण सी बात या बयान को ब्रेकिंग न्यूज बना कर पेश कर रातों रात उस अनजाने से नेता को भी देश की जनता जान जाती है ।
विवादित बयान या भाषा की मर्यादाएं तब और अधिक टूटना शुरू हो जाती हैं जब चुनाव होता है । राजनेता अपनी विवादित शैली के शब्दों और भाषणों के जरिये जनता को लुभाने में ऐड़ी चोटी तक का जोर लगा देते हैं बाकी का उनका काम मिडिया उस खबर को ब्रेंकिंग न्यूज बना कर पूरी कर देता है ।
यहां ऐसा भी नहीं है कि जुबान अनजाने नेता या कम मशहूर नेताओं की ही फिसलती है ।
चुनावों में जिम्मेदार पद पर आसीन राजनेता भी व्यक्तिगत हमले और विवादित बयानों के भाषण देकर ऐसे ऐसे शब्दों का प्रयोग करते हैं जो किसी भी सभ्य समाज में स्वीकार करने योग्य नहीं हैं ।

एक लंबे समय से देखा जाता रहा है नेताओं और पार्टियों के नारे भी कम विवादित नहीं रहे हैं अब वो चाहें तिलक तराजू हो या फिर मंदिर वहीं बनाएंगे या फिर हवा हवाई अच्छे दिन के नारे या जुमले हों ।

पूर्व के हमारे नेताओं या आजादी के मतवाले हमारे क्रांतिकारियों के नारे युवाओं में एक जोश और उनके बाजुओं को फड़काने का काम करते थे जैसे "तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा" "अंग्रेजों भारत छोड़ो" "सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है" "जय जवान जय किसान" आदि जो देश की जनता को एक प्रेरणा देने का कार्य करते थे और समाज और देश को जोड़ने का काम करते थे

आज के समय के नारे "तिलक तराजू और तलवार" "मंदिर वहीं बनाएंगे " "कथित अच्छे दिन" वगैरह अन्य जुमले "मां बेटे की सरकार" " बाप बेटे की सरकार" "लात मार कर निकाल देना" "किसी भी चौराहे पर सजा दे देना" "फाँसी पर चढ़ा देना" आदि आदि ।
और हाल में ही अब बात शमशाम से लेकर कब्रिस्तान पर आ गई है अरे भाई हिंदुस्तान की भी बात कर लिया करो , नेताओं कुछ ईमान की बात भी कर लिया करो ये भी न कर सको तो इंसानियत और इंसान की ही बात कर लिया करो हिन्दू और मुसलमान, कब्रिस्तान और शमशान की बात कहकर हिन्दुस्तान को बाँटने की कोशश न करो ।

इन नारों और जुमलों को सुनकर आम सभ्य लोगों का अपना सिर धुनने का मन करने लगता है और ये नारे और जुमले किसी छोटे या आम नेताओं के नहीं बल्कि देश के जिम्मेदार और महत्वपूर्ण और जिम्मेदार पदों पर आसीन या आसीन रहे राज नेताओं के हैं और इस प्रकार के नारों ने समाज और देश को बाँटने का ही कार्य किया है ।
और नेताजी के लिए वो कहावत चरितार्थ हो जाती है "बदनाम हुए तो क्या, नाम तो हो गया"
या फिर
"चुनाव तो सफल हो गया "

पं संजय शर्मा की कलम से

Jindgi ik khwav hai

Author  Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh'   (Sun 1st Feb 2015) Jindgi ik khwav hai
Jindgi ik khwav hai

To mout ik hakiqat

Kise kab aagosh mai lele

Ye uski apni fitrat

Meri raaho mai
.... Read More

Sad Shayari

Author  Photo Satyam Singh Rajput   (Mon 27th May 2019) Sad Shayari
#Milna tha uss se, par mil na saka
Kuch kehna tha uss se, par keh na saka
Khawabon mein toh wo meri hi thi...
Par hakikat mein uuse apna bana na saka.....
Apne dil ki baat usse keh na saka
Ek aakhri vaar milna tha usse
Par mil na saka...............mil na saka.... Read More

जख़्म

Author  Photo Shrivastva MK   (Fri 13th Oct 2017) जख़्म
आज दो-चार बूँद आंसू के मुझे भी छलका लेने दो,
रो रहा हूँ मैं,दर्द के गीत मुझे भी गुनगुना लेने दो,
अब हसीन लमहात की ख्वाईश न रही,
ये ज़ख्म जो तूने दिया मुझे ,इसे खूबसूरत दुनिया से छुपा लेने दो,

क्यों किये इतने सारे वादें जब तोड़ के जाना ही था,
देके दर्द जुदाई का मुझे,मेरा दिल दुखाना ही था,
क्यों.... Read More

किस्मत

Author  Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh'   (Thu 12th May 2016) किस्मत
नभ के बादल घुमड़ घुमड़ जब
आसमान पर छाये थे
कुछ ऐसी ही किस्मत लेकर
हम दुनिया में आये थे
हम तो अपनी आशाओं में
कुछ सपने बुनकर लाये थे
सपनों की उस बगिया के
कुछ फूल चुनकर लाये थे
गम नहीं इस बात का
कुछ दर्द यहां पर पाये थे.... Read More

Jeewan ka Safar

Author  Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh'   (Sat 31st Jan 2015) Jeewan ka Safar
Jeewan ke safar mai milta hai koi
Fir apna sa lagta hai koi
Mila nahi use kabhi
Par apna sa lagta hai koi


Andhere se ujalo ki or
Nadi se kinaro ki or
Nahi thama yahi safar
Milkar chale baharo ki o.... Read More

सियासत का नया भूचाल

Author  Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh'   (Sat 26th May 2018) सियासत का नया भूचाल
*सियासत का नया भूचाल "नीरव मोदी"*

सियासत के गलियारों में
नया भूचाल आया है
अच्छे दिन की राहों में
ये बबूल कहाँ से आया है
याद करो तुम वादे अपने
उन्हें पूरा नहीं कराया है
विजय माल्या और ललित मोदी
क्यों हाथ नहीं आ पाया है.... Read More

MERI ZINDAGI SIRF TUMSE HAI

Author  Photo Shrivastva MK   (Sat 7th Oct 2017) MERI ZINDAGI SIRF TUMSE HAI
Meri muskurahat sirf tum se hai,
Meri khushi sirf tum se hai,
Kyon anjaan banke itna tadpate ho mujhe ye jaankar bhi ki,
meri zindagi sirf tum se hai,
meri zindagi sirf tum se hai...

Aankhen nam kar kahan chale gye tum
yu bnake mujhe zinda lash,
sisak-sisak ke ro rha dil ye mera
banke wo d.... Read More

DedIcAted tO oUr 'AWESOME' cOlLeGe lIFe..!!

Author  Photo ravi   (Wed 23rd Mar 2016) DedIcAted tO oUr 'AWESOME' cOlLeGe lIFe..!!
Dil me josh,sasoon me tufan..
Ye h apne college ki duniya padhna-likhna toh chalta he rahega..
Aish tu kar koe kuch nae kahega..
Yaha aa k bas bindass ho jao. upar wale chhat pe gappe ladao..
lunch me canteen se chai pe k aana, uske baad lecture me neend ka bahana..
ekathe ho k assignment banan.... Read More

hamne Jo ki Mohabbat

Author  Photo Henrik Vishal   (Sun 23rd Nov 2014) hamne Jo ki Mohabbat
Hamne Jo ki thi mohabbat Wo aaj bhi hai,
Tere julpho ki saaye ki chahat aaj bhi hai

Raat Kati hai aaj khayalo me
Tere deewano si meri wo halat aaj bhi hai,

Kisi aur ke tasabbur ko uthti nahi nigahe,
Is baimaan aankho me thodi si sarafat aaj bhi hai,

Chaah kar chaahe ek baar phir chod De.... Read More