Doodh ka karz

Writer Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh' Tue 12th May 2015      Write your Poem
maa-ke-doodh-ka-karz.jpg
Karz hai tere doodh ka mujh par
Us karz ko kaise Chukaunga
Ha Maa mai tera beta hu
Is bhool kabhi n paunga
Tune itna dular diya Maa
Isko n mai jhuthhlaunga
Teri mamta ki chhanv mai Maa
Apna jeewan bitaunga
Thhes lagi Jo dil par tere
Us dard ko n sah paunga
Teri aan aur shaan ki khatir
Seene par goli khaunga



Comments

Similar Stories
Life is very beautiful
Author  Photo Sudhakar Kumar   (Sat 6th Dec 2014) life-is-very-beautiful.jpg
एक नगर में एक मशहूर चित्रकार रहता था ।
चित्रकार ने एक बहुत सुन्दर तस्वीर बनाई और उसे नगर के चौराहे मे लगा दिया और
नीचे लिख दिया कि जिस किसी को , जहाँ भी इस में कमी नजर आये वह वहाँ निशान लगा दे ।
जब उसने शाम को तस्वीर देखी उसकी पूरी तस्वीर पर निशानों से ख़राब हो चुकी थी ।
यह देख वह बहुत दुखी हु.... Read More
विदुषी महिला
Author  Photo Sudhakar Kumar   (Sat 6th Dec 2014) bidushi-mahila.jpg
एक अमीर आदमी की शादी विदुषी महिला से हुई।
आदमी हमेशा अपनी पत्नी से
तर्क-वितर्क में पराजित हो जाता था।
एक दिन पत्नी ने कहा की औरते, पुरूषो से
किसी मामले में कम नहीं होती।
पुरूष ने कहा ठिक है,
मैं दो साल के लिये तुमसे दूर जा रहा हूँ।
इन दो सालो में एक महल,व्यापार में मुनाफा और एक बच्चा पैदा कर .... Read More
वास्तविक प्यार
Author  Photo Sudhakar Kumar   (Thu 15th Jan 2015) vastavik-pyar.jpg
आइये एक नज़र डालते है वास्तविक प्यार
पर......
°…°…°…°…°…°…°…°…°…°…°…°
जब एक छोटी लड़की अपने
पापा को बाहर से आया देखकर
उनके लिए भागकर एक गिलास......
पानी का लाये|
यह प्यार है
——————————
जब सुबह पत्नी,
पति के लिए चाय बनाती है और
... उस चाय को पति को देने के पहले
पहला घूंट पीती है|
यह प्यार.... Read More


Similar Articles
बेटी बचाओ
Author  Photo SONIA PARUTHI   (Sun 2nd Oct 2016) Beti-bachao-beti-padhaao.jpg
बेटी बचाओ

बेटा हो या बेटी ,है तो अपने आँगन का ही फूल , तो फिर आज के युग में बेटी का जन्म होने से पहले ही एक बेटी को माँ की कोख में ही मार दिया जाता है। उसे भी जीने का हक है। लोगो का मानना है कि जो मम्मी और पापा को स्वग॔ ले जाता है वह बेटा होता है।पर शायद लोग इस बात से अनभिज्ञ हैं कि जो स्वग॔ को घ.... Read More
सफलता की कुंजी
Author  Photo SONIA PARUTHI   (Mon 3rd Oct 2016) safalata-ki-kunji.jpg
जवाब चार पन्नों में दिया जाए ,
एक पूरी किताब में दिया जाए
या केवल एक पंक्ति में, जवाब वही होगा
मेहनत, लगन और विश्वास , अब यह आप पर निर्भर करता है कि इस बात को समझने के लिए कितना समय लेना चाहते हो, एक पूरी किताब पढ़कर या केवल एक - दो शब्द समझकर।

कोई भी कार्य पलक झपकते ही नही हो जाता है। हर कार्.... Read More
पराधीन सपनेहूँ सुख नाहीं
Author  Photo SONIA PARUTHI   (Mon 11th Dec 2006) Tulisdas-Ji.jpg
पराधीन सपनेहूँ सुख नाहीं

तुलसीदास जी ने हमारे जीवन की सबसे बङी सच्चाई से अवगत कराया है कि जो व्यक्ति पूरे विश्व में दूसरों पर अधीन होता है,  वह व्यक्ति सपनों में भी सुख नहीं पाता है । हमें किसी पर भी निर्भर नहीं रहना चाहिए। हमें खुद पर अटूट विश्वास होना चाहिए व सच्ची लगन से अपने लक्ष्य की और बढ़त.... Read More


Similar Confessions
The Graph
Author Photo Anonymous User   (Sun 5th May 2019) The-Graph.jpg
Admi aise ek aisa janbar hai jo kabhi kisi ka dard samjh pata hai to kabhi kisi ka nahi . Like he is always in confusion mode . But now a days life is running with good stuffs and bad stuffs . bhag daud ki zindegi , sath me naukri aur biwi . yahi hai zindegi ? Aj kal koi kisi ko samjh nahi pata hai .... Read More
When two book thief met in Library
Author Photo Anonymous User   (Sat 26th Mar 2016) when-two-book-thief-met-in-Library.jpg
I used to steal books from our college Library. One day when I was doing my work in the library yeah.... Read More
I am happy unmarried mother of a little girl
Author Photo Anonymous User   (Sat 26th Mar 2016) happy-unmarried-mother-of-a-little-girl.jpg
#copied

I m an unmarried mother of a little girl.. neither im i in any relationship ... im happy .... Read More

Similar Poems


माँ
Author  Photo Sanjeet Kumar Pathak   (Thu 13th Nov 2014) poem-for-maa.jpg
मुझे सुलाने की खातिर,
कई पहरों तक तुम लोरी गाई ….
अनजान तेरे दुःख से मै सोया,
जननी, इतना धैर्य कहाँ से लायी ?

मेरी दुनिया तुमने जन्नत कर दी,
अपनी खुशियों की बलि चढ़ाई,
ये जन्नत तुझसे बढ़ कर नहीं माँ,
माँ, इतना बलिदान कहाँ से लायी ?

जब भी था मैं निरा अकेला,
साथ मेरे तू थी बन परछाई,
माँ,.... Read More


अम्‍मा
Author  Photo Prabhat Kumar   (Mon 2nd Mar 2015) amma.jpg
एक बार इस कविता को दिल से पढ़िये
शब्द शब्द में गहराई है...

जब आंख खुली तो अम्‍मा की
गोदी का एक सहारा था
उसका नन्‍हा सा आंचल मुझको
भूमण्‍डल से प्‍यारा था

उसके चेहरे की झलक देख
चेहरा फूलों सा खिलता था
उसके स्‍तन की एक बूंद से
मुझको जीवन मिलता था

हाथों से बालों को नोंचा
पैरों से खूब प्र.... Read More


Maa
Author  Photo Ragini   (Wed 6th May 2015) maa.jpg
Tum door hokar bhi pass ho mere,
Sabse pyara sabse nyara ...
Jeevan ka ehsas ho mere,
Tumne har pal mujhko dulara hai .....
Mai khushnaseeb hun maa jo maine tumhe paya hai,
Aankhein band karun tu tum nazar aati ho ;
mujhe apne hone ka ehsas dilati ho,
Tumhari hun bitiya tum see hi hun,
.... Read More



Mata pita ke charno mai
Author  Photo Pandit Sanjay Sharma 'aakrosh'   (Tue 12th May 2015) mata-pita-ke-charno-mai.jpg
Mata pita ke charno mai mujhe
Charo dhaam najar aa jara hai
Mathura kashi mai kyo jau
Mujhe vaikunthh yahi mil jara hai
Lathhi bankar saath chalu mai
Mujhe apna bachpan had aa jata hai
Unki hi ungli pakadkar
Mujhe chala bhi aa jata hai
Seva kare Jo mata pita ki
Uska jeewan bhi safal ho .... Read More


MAA
Author  Photo Shrivastva MK   (Mon 2nd Oct 2017) maa1.jpg
Maa tere aanchal me humne Sara sansaar dekha hai,
Maa tere aankhon me humne khushiyo ka bahar dekha hai,

Maa tere charano me humne swarg ka dwar dekha hai,
Maa tere dil me humne baccho ke liye pyar dekha hai,

Maa tune Hume sabse pyaar aur samman karna sikhaya hai,
Maa tune srishti Ki rachna.... Read More


Maa
Author  Photo SONIA PARUTHI   (Wed 18th Oct 2017) maa2.jpg
Ankhiyan vich hanju digde ne
Milan nu dil tarsan de
Aa jao maa
Rona haiga gale naal laa
Twadi hr khwaiysh poori karan nu dil chahnda
Ek waari aajaa.....maa aakhna
Tussi inni dur chale gye
Jitho kde vapis ni aaye
Hr pal twanu yaad kra
Mara te twade naal mara
Pr tussi Akele hi tur paye .... Read More